View Post

क़यामत से क़यामत तक के 30 साल: फिल्...

अपने पिता नासिर हुसैन से फिल्म की कमान लेने के बाद, मंसूर खान ने फिल्म की पटकथा को उस वक़्त के हिसाब से बनाने के लिए ढेरों बदलाव किए। इस दौरान जिस बात पर दोनों के बीच सबसे ज्यादा बहस हुई वो थी, फिल्म के क्लाइमेक्स में नायक-नायिका को मारना।
Share